जिनिंग मिलों की सीमित बिक्री से लोअर राजस्थान में कॉटन की कीमतें रुकी, दैनिक आवक ज्यादा

जिनिंग मिलों की सीमित बिक्री से लोअर राजस्थान में कॉटन की कीमतें रुकी, दैनिक आवक ज्यादा

नई दिल्ली, 24 नवंबर (कमोडिटीज कंट्रोल) जिनिंग मिलों की बिक्री सीमित बनी रहने के कारण लोअर राजस्थान की मंडियों में शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन कॉटन की कीमतें रुकी रही, जबकि राज्य की मंडियों में कपास की दैनिक आवकों में बढ़ोतरी दर्ज की गई।

IMG 20231115 WA0023

राज्य के कपास उत्पादक क्षेत्रों में मौसम साफ हैं। व्यापारियों के अनुसार कॉटन की मौजूदा कीमतों में जिनिंग मिलों को घाटा लग रहा है, इसलिए मिलें इन भाव में कॉटन की बिकवाली कम कर रही है। इसलिए हाजिर बाजार में इसके दाम स्थिर बने हुए हैं। जानकारों के अनुसार जिनर्स ने किसानों से उंचे दाम पर कपास की खरीद की थी, जबकि हाल ही में घरेलू बाजार में कॉटन की कीमतों में मंदा आया है। उधर राज्य की स्पिनिंग मिलों के पास भी कॉटन का बकाया स्टॉक कम है, ऐसे में आगे मिलों की खरीद बढ़ने की उम्मीद है। राज्य में कपास के साथ ही बनौला के दाम स्थिर हो गए।

घरेलू वायदा बाजार में आज कॉटन की कीमतों में गिरावट रुख रहा। एनसीडीईएक्स पर अप्रैल-24 वायदा अनुबंध में कपास की कीमतें 10 रुपये तेज होकर दाम 1,573 रुपये प्रति 20 किलो हो गए। इस दौरान एमसीएक्स पर नवंबर-23 वायदा अनुबंध में कॉटन की कीमतें 520 रुपये कमजोर होकर दाम 56,220 रुपये प्रति कैंडी रह गए।

लोअर राजस्थान की मंडियों में कॉटन की आवक आज 8,000 गांठ, एक गांठ-170 किलो की हुई, जबकि पिछले कारोबारी दिवस में आवक 7,000 गांठ की हुई थी।

Leave a Comment