स्पिनिंग मिलों की मांग बढ़ने से दोपहर बाद गुजरात में कॉटन तेज, उत्तर भारत में कमजोर

स्पिनिंग मिलों की मांग बढ़ने से दोपहर बाद गुजरात में कॉटन तेज, उत्तर भारत में कमजोर

नई दिल्ली, 29 फरवरी (कमोडिटीज कंट्रोल) स्पिनिंग मिलों की मांग बढ़ने के कारण गुरूवार को दोपहर बाद गुजरात में कॉटन के दाम तेज हो गए, जबकि उत्तर भारत के राज्यों में इसकी कीमतों में मंदा आया।

गुजरात के अहमदाबाद में 29 शंकर-6 किस्म की कॉटन के भाव 200 रुपये बढ़कर 61,000 से 61,400 रुपये प्रति कैंडी, एक कैंडी-356 किलो हो गए।

पंजाब में रुई के हाजिर डिलीवरी के भाव कमजोर होकर 5900 से 5950 रुपये प्रति मन बोले गए।

हरियाणा में रुई के भाव हाजिर डिलीवरी के भाव कमजोर होकर 5825 से 5950 रुपये प्रति मन बोले गए।

ऊपरी राजस्थान में रुई के भाव हाजिर डिलीवरी के भाव घटकर 5550 से 6050 रुपये प्रति मन बोले गए।

खैरथल लाइन में कॉटन के दाम 58,500 से 59,000 रुपये कैंडी, एक कैंडी-356 किलो बोले गए।

देशभर की मंडियों में कपास की आवक 99,100 गांठ, एक गांठ-170 किलो की हुई।

घरेलू वायदा बाजार एमसीएक्स के साथ ही एनसीडीएक्स पर आज शाम को कॉटन की कीमतों में शाम को मिलाजुला रुख रहा। आईसीई के इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग में कॉटन के दाम शाम के सत्र में मिलाजुला रुख देखा गया।

स्पिनिंग मिलों की मांग बनी रहने से गुजरात में कॉटन के दाम तेज हुए, लेकिन उत्तर भारत के राज्यों में इसकी कीमतें कमजोर हो गई। हालांकि व्यापारी अभी बड़ी गिरावट के पक्ष में नहीं है। व्यापारियों के अनुसार हाल ही में विश्व बाजार में कॉटन की कीमतें तेज हुई हैं, जिस कारण घरेलू बाजार से कॉटन के निर्यात में पड़ते अच्छे लग रहे हैं। यार्न की स्थानीय मांग भी पहले की तुलना में बढ़ी है, जबकि देशभर की छोटी स्पिनिंग मिलों के पास कॉटन का बकाया स्टॉक भी कम है। उत्पादक मंडियों में कपास की दैनिक आवकों में कमी आई है, तथा आगामी दिनों में इसकी आवकों में और कमी आयेगी। इसलिए हाजिर बाजार में कॉटन की कीमतों में आगे फिर सुधार आने का अनुमान है।

व्यापारियों के अनुसार पहली अक्टूबर 2023 से शुरू हुए चालू फसल सीजन 2023-24 में 26 फरवरी 2024 तक देशभर की मंडियों में 213.83 लाख गांठ, एक गांठ 170 किलो कपास की आवक हो चुकी है।

कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया, सीएआई ने फसल सीजन 2023-24 के दौरान अपने कपास उत्पादन अनुमान को 294.10 लाख के पूर्व स्तर पर बरकरार रखा है। मालूम हो कि फसल सीजन 2022-23 के दौरान देशभर में 318.90 लाख गांठ कॉटन का उत्पादन हुआ था।

विश्व बाजार में खाद्वय तेलों की कीमतों में तेजी का रुख रहा, हालांकि घरेलू बाजार में कॉटन वॉश की कीमतें कमजोर हो गई। धुले में कॉटन वॉश के दाम 10 रुपये घटकर 865 रुपये प्रति 10 किलो रह गए। इस दौरान अकोला में कॉटन वॉश के भाव पांच रुपये कमजोर होकर 870 रुपये प्रति 10 किलो रह गए। अमरावती में कॉटन वॉश की कीमतें पांच रुपये घटकर 870 रुपये प्रति दस किलो के स्तर पर पर आ गई।

तेल मिलों की मांग घटने से बिनौले के भाव उत्तर भारत के राज्यों में स्थिर से नरम हुए। हरियाणा में बिनौले के भाव 100 रुपये कमजोर होकर दाम 2250 से 2550 रुपये प्रति क्विंटल रह गए। इस दौरान श्रीगंगानगर लाइन में बिनौला के भाव 2300 से 2700 रुपये प्रति क्विंटल पर स्थिर हो गए। बिनौला के दाम पंजाब में 50 रुपये कमजोर होकर 2200 से 2500 रुपये प्रति क्विंटल रह गए।

तेल मिलों की बिकवाली सीमित होने के कारण कपास खली की कीमतें स्थिर हो गई। सेलु में कपास खली की कीमतें 2,870 रुपये प्रति क्विंटल पर स्थिर हो गई। इस दौरान शाहपुर में रेगुलर क्वालिटी की कपास खली के दाम 2,900 रुपये प्रति क्विंटल पर स्थिर हो गए। सूर्यापेट में रेगुलर क्वालिटी की कपास खली के दाम 2,800 रुपये प्रति क्विंटल के पूर्व स्तर पर स्थिर हो गए।

Leave a Comment

मंडी भाव जानकारी 14 दिसंबर 2023 आज का ताजा नरमा और कपास का भाव पंजाब में आज के ताजा Diesel के भाव पंजाब में 14 Dec. 2023 के ताजा पेट्रोल के मूल्य आज का ताजा मंडी भाव जानकारी ग्वार,मूंग,मोठ, नरमा, कपास आदि फसलों का ताजा मंडी भाव जानकारी