मिलों की मांग सीमित से लोअर राजस्थान में कॉटन की कीमतें रुकी, दैनिक आवकों में कमी

मिलों की मांग सीमित से लोअर राजस्थान में कॉटन की कीमतें रुकी, दैनिक आवकों में कमी

img 20230214 wa01273709089792559805770

नई दिल्ली, 6 मार्च (कमोडिटीज कंट्रोल) स्पिनिंग मिलों की मांग सीमित बनी रहने के कारण लोअर राजस्थान की मंडियों में सोमवार को लगातार पांचवे कार्यदिवस में कॉटन की कीमतें रुकी रही, जबकि राज्य की मंडियों में कपास की दैनिक आवकों मेें कमी दर्ज की गई।

राज्य के कपास उत्पादक क्षेत्रों में मौसम साफ है। व्यापारियों के अनुसार राज्य की स्पिनिंग मिलों को कॉटन की मौजूदा कीमतों में पड़ते तो लग रहे हैं, लेकिन मिलें सीमित मुनाफे में कार्य कर रही हैं, इसलिए स्पिनिंग मिलें इन्वैंट्री नहीं बढ़ा रही हैं। पिछले दिनों राज्य में बिनौला और कपास खली की कीमतों में मंदा आया था, जिस कारण राज्य की जिनिंग मिलों को भी डिस्पैरिटी का सामना करना पड़ रहा है। अत: जिनिंग मिलें दाम घटाकर कॉटन की बिकवाली नहीं कर रही हैं, इसलिए हाजिर बाजार में कॉटन के दाम लगातार पांचवे कार्यदिवस में भी स्थिर बने रहे। ऐसे में हाजिर बाजार में कॉटन की कीमतों में अभी सीमित घटबढ़ बनी रहने की उम्मीद है। राज्य में आज भी बिनौला और कपास खल के दाम स्थिर बने हुए हैं।

घरेलू वायदा बाजार में आज कॉटन की कीमतों में गिरावट का रुख रहा। एनसीडीईएक्स पर अप्रैल-23 वायदा अनुबंध में कपास की कीमतें 0.84 फीसदी नरमी होकर 1,606.91 रुपये प्रति 20 किलो रह गई। इस दौरान एमसीएक्स पर अप्रैल-23 वायदा अनुबंध में कॉटन की कीमतें 160 रुपये घटकर 63,340 रुपये प्रति कैंडी रह गई।

आज राज्य की उत्पादक मंडियों में कपास की आवक 1,000 गांठ की हुई, जबकि पिछले कारोबारी दिवस में आवक 3,000 गांठ की हुई थी।

राज्य की अलवर, खैरथल और बहरोड़ लाईन में 28.5 एमएम की कॉटन के भाव 60,700 से 61,200 रुपये प्रति कैंडी, एक कैंडी-356 किलो क्वालिटीनुसार रहे।

मेवाड़/विजयनगर लाईन में कॉटन के भाव 61,300 से 62,300 रुपये प्रति कैंडी रहे।

मारवाड़ लाईन में कॉटन के भाव 60,700 से 62,300 रुपये प्रति कैंडी क्वालिटीनुसार रहे।

ब्यावर लाईन में कॉटन के भाव 60,700 से 62,300 रुपये प्रति कैंडी क्वालिटीनुसार रहे।

राज्य की मंडियों में बिनौला के भाव 3,500 से 3,600 रुपये प्रति क्विंटल रहे, जबकि कपास के भाव 7,900 से 8,900 रुपये प्रति क्विंटल रहे।

Total Views: 1 ,

Leave a Comment